इम्यूनिटी – कैसे पहचाने , कहीं कमजोर तो नहीं आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता

वर्तमान समय में कई सारी बीमारियां फैल रही है कुछ बीमारियां हमारे अनियमित जीवन चर्या के कारण है तो कुछ बीमारियां बाहर से आने वाले बैक्टीरिया, वायरस के कारण हो रही है। किंतु आज का मुख्य विषय कोविड-19 है जिसने पूरे विश्व में एक वैश्विक महामारी का रूप ले रखा है। हम सभी हर रोज कोरोनावायरस संक्रमित लोगों की खबरें टीवी एवं इंटरनेट के माध्यम से देखते हैं जिसे कम करने के लिए राज्य सरकार समेत केंद्रीय सरकार भी हर मुमकिन प्रयास कर रही है। यदि आप कोरोनावायरस से बचने के उपायों पर ध्यान दें तो उनमें सबसे महत्वपूर्ण यही है कि हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाएं। सभी जानते हैं कि इम्यूनिटी बढ़ने से हम इस वायरस से बच सकते हैं, किंतु जरूरी है कि पहले हम इस इम्यूनिटी के जाल को समझे। डॉक्टर भी सभी को इसे बनाए रखने या फिर बढ़ाने की सलाह देते हैं लेकिन सभी के मन में कई प्रकार के सवाल उठते हैं कि ये क्या होती है? इसको कैसे बढ़ाया जाए एवं किन कारणों से यह कम होती है? इन सवालों को लेकर लोगों के मन में कई प्रश्न उठते हैं किंतु आप इस लेख को पढ़कर इम्युनिटी से जुड़े सभी सवालों के जवाब आपको मिल सकते हैं!

क्या है इम्यूनिटी –

हमारे शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली होती है जो कोशिकाओं, उत्तको एवं प्रोटीन से बनी होती है जो की शरीर में आने वाली किसी भी बैक्टीरिया, वायरस से रक्षा करता है एवं उस के हानिकारक प्रभाव को कम करता है। यह एक ऐसा जाल है जो कि यदि शरीर में कोई हानिकारक टॉक्सिंस प्रवेश करता है तो उसे लड़कर शरीर से बाहर कर देता है। इसे” डिफेंस सिस्टम” भी कहा जाता है। जिस प्रकार एक- एक ईटों से घर बनता है उसी प्रकार कोशिकाओं से शरीर बनता है शरीर के सभी हिस्सों में यह इम्यूनिटी कोशिका होती है जो बैक्टीरिया ,वायरस से आंतरिक शरीर की रक्षा करता है और हमें रोगों से बचाता है।

क्या आपने सोचा है कि कुछ लोग बार-बार बीमार होते रहते हैं क्या उसका कारण शरीर की इम्यूनिटी कम होना तो नहीं है! हमें पता भी नहीं होता और हम खाने-पीने के साथ यहां तक की सांस लेने के साथ भी कई हानिकारक तत्व अपने अंदर ले लेते हैं। जोकि हमारे लिए हानिकारक होते हैं। ऐसा होने के बाद भी कुछ लोग बीमार क्यों नहीं होते ! क्योंकि जिनका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है वे इन बाहरी संक्रमणों से बेहतर तरीके से मुकाबला करते हैं।

कैसे पहचाने हमारी इम्यूनिटी कैसी है –

यह हम सभी जानते हैं कि हमारे लिए अच्छी इम्यूनिटी का होना कितना जरूरी है किंतु हम तुम बातों से अनजान है जो हमारी इम्यूनिटी को कम करते हैं या हमारी इम्यूनिटी कैसी है? जिसके बिना हम जल्दी ही किसी रोग के प्रभाव में आ जाते हैं। मां प्रकृति ने सभी जीवो को यह जीवनी शक्ति दी है किंतु फर्क बस इतना है कि यह हमें कैसे एवं किस प्रकार से प्राप्त हुई है। यह जन्म से हमारे पास होती है ।एक गर्भस्थ शिशु की इम्यूनिटी उसकी माता के आहार विहार पर निर्भर करती है एवं जब शिशु बड़ा हो जाता है तो यही जीवनी शक्ति उसके जीवन चर्या एवं विचारों पर निर्भर करती है। आइए हम जानते हैं कि हमारे शरीर में हमारा इम्यूनिटी का स्तर कैसा है ! इसके लिए जरूरी नहीं कि आप कोई मेडिकल टेस्ट करवाएं क्योंकि हमारा शरीर ही कुछ ऐसे लक्षण प्रकट करता है जिससे पता चलता है कि हमारी इम्यूनिटी का स्तर कैसा है!

वेदों में ऐसे 8 लक्षण बताए हैं जो यह स्पष्ट करते हैं कि हमारी इम्यूनिटी का स्तर कैसा है! जिन्हें जानकर हम अपनी इम्यूनिटी का पता सकते है आइए जानते हैं –

1. रोज पेट साफ होना –

हम सभी जानते हैं साफ शरीर ही अच्छी इम्यूनिटी रखता है यदि रोज आपका पेट साफ नहीं होता तो आप अपनी इम्यूनिटी को कम कर रहे हैं । पेट साफ ना होने से कब्ज जैसी समस्या हो जाती है जिससे आंतों में मल जमा रहता है ओर यह स्वयं ही जीवाणुओं को अपनी ओर आकर्षित करता है जैसे – यदि दो डस्टबिन को रखा जाए जिसमें एक खाली हो एवं दूसरे में कचरा भरा हो तो आपने देखा होगा बैक्टीरिया एवं मक्खी मच्छर कचरे वाले डिब्बे में ही आते हैं उसी प्रकार यदि हमारी आंतौ में मल भरा रहता है तो हम कैसे यह सोच सकते हैं कि हमारी इम्यूनिटी अच्छी होगी । यह असंभव है क्योंकि शरीर में भरा टॉक्सिंस ही बैक्टीरिया ,वायरस को आमंत्रित करता है। यदि नियमित रूप से पूरे दिन में एक बार अच्छे से पेट साफ हो जाता है तो हम सोच सकते हैं हमारी इम्यूनिटी बेहतर है।

2. ज्यादा वजन ना होना –

यदि हमारा वजन ज्यादा है तो इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि हमारे शरीर का मेटाबॉलिज सही नहीं है। एवं हमारे पेट का साफ ना होना भी वजन बढ़ने का कारण है। लोगों का पेट साफ नहीं होता उनका वजन अपने आप बढ़ने लगता है और यह सबसे अधिक पेट पर देखा जाता है । वजन बढ़ना भी कमजोर इम्यूनिटी का लक्षण है।

3. साफ त्वचा होना –

त्वचा का साफ सुंदर होना हमारे शरीर के अंदर के आईने को दर्शाता है यदि शरीर साफ होगा। रक्त साफ होगा ,तो त्वचा भी साफ व सुंदर होगी। आपने देखा होगा कि जब हमारे चेहरे एवं शरीर के किसी हिस्से पर फोड़े फुंसी एवं धब्बे हो जाते हैं तो इसका कारण यह होता है कि हमारा रक्त शुद्ध नहीं है उसमें गंदगी जमा है यदि आपकी त्वचा साफ सुथरी है तो इससे आप एक बेहतर इम्यूनिटी का पता लगा सकते हैं।

4. आलस्य ना होना –

कुछ लोगों को नींद पूरी होने के बाद भी हर वक्त थकान सी रहती है जो कि शरीर में जमी गंदगी के कारण होती है यदि हम पूरे दिन ऊर्जावान रहते हैं तो यह एक अच्छी इम्यूनिटी का लक्षण है।

5. अच्छी भूख लगना –

कुछ लोगों को वास्तविक भूख लगती ही नहीं वह तो बस केवल समय होने पर पेट भर लेते हैं। लेकिन यदि हम शरीर के प्राकृतिक वेगो को देखें भूख लगना एक वास्तविक होना जरूरी है क्योंकि यदि हमारे पेट में पहले से ही गंदगी जमा है तो हमारा शरीर खाने के लिए आदेश नहीं देता और यदि फिर भी हम खा लेते हैं तो वह उसका पाचन नहीं करता जिससे पेट से संबंधित कई बीमारियां हो जाती है जोकि हमारी इम्यूनिटी को भी प्रभावित करती है।

6. गहरी नींद आना –

कुछ लोगों को बिस्तर पर आते ही कुछ समय में नींद आ जाती है किंतु कुछ लोग लंबे समय तक उसका इंतजार करते रहते हैं जो लोग रात को सोने पर सुबह ही उठते हैं एक गहरी नींद लेते हैं उनकी इम्यूनिटी भी अन्य की तुलना में बेहतर देखी गई है।

7. शरीर के किसी अंग में दर्द ना होना –

लोगों के शरीर में जगह जगह दर्द होता रहता है उनके शरीर के हिस्से पुकारते रहते हैं जोकि सही नहीं है एक स्वस्थ शरीर में किसी प्रकार का दर्द नहीं होना यदि फिर भी आपको दर्द है तो कहीं ना कहीं इसका असर आपकी इम्यूनिटी पर भी होता है।

8. सुख का अनुभव –

हम सकारात्मक होते हैं तो खुद को अधिक सुखी अनुभव करते हैं क्या आपने सोचा है हम पूरे दिन में कितने समय खुश कहते हैं एवं इतने समय निराश यदि हम पूरे दिन में तनाव, चिड़चिड़ापन एवं गुस्से में रहते हैं तो कहीं ना कहीं हम अपनी इम्यूनिटी को कम कर रहे हैं इससे हम अपनी इम्यूनिटी का आंकलन कर सकते हैं।

इस प्रकार आठों लक्षणों से हम अपनी इम्यूनिटी का स्कोर देख सकते हैं यदि इनमें से 1,3या5,6 जो भी रहता है इनको हम मां प्रकृति के कई गुणों से बढ़ा सकते हैं।

इम्यूनिटी को बढ़ाने के बेहतर उपाय –

इम्युनिटी को बढ़ाना कोई रातों-रात की क्रिया नहीं है। हम सोचते हैं कि कुछ कांढे, एवं दवाइयां लेने से इसको तुरंत बढ़ा सकते हैं किंतु यह गलत है। यह एक दिन में होने वाली क्रिया नहीं है। आइए हम उन तरीकों के बारे में जानते हैं जो हमारी इम्यूनिटी को बेहतर बनाती है लेकिन उससे पहले यह जान लेना जरूरी है कि जब तक हम उन कारणों को दूर नहीं करते जिनसे हमारी इम्यूनिटी कमजोर होती है तो यह महत्वपूर्ण नहीं होता कि यह तरीके आप पर काम करेंगे। आज की आधुनिक जीवन शैली एवं डिब्बा पैकिंग खाना खाते हैं वह एक मुख्य कारण है हमारी जीवनी शक्ति के कम होने का।

हम उन तरीकों की बात करते हैं जिनसे हम अपनी इम्यूनिटी बढ़ा सकते हैं –

1. शाम 7 बजे के बाद कुछ ना खाएं –

अपने उपवास के बारे में तो सुना होगा। कहा भी गया है “Fasting is the best medicine” उपवास सभी रोगों के लिए एक अच्छी औषधि का काम करता है। आजकल हम दिन भर कुछ ना कुछ खाते रहते हैं जिससे हमारी प्राणशक्ति पूरे दिन इस खाने को पचाने में लगी रहती है उसे शरीर को Heal करने का समय तो मिलता ही नहीं है। जिससे शरीर में टॉक्सिंस इकट्ठा होने लगते हैं। यदि हम शाम का भोजन 7:00 बजे तक कर लेते हैं और दूसरे दिन सुबह 10:00 बजे तक कोई ठोस खाना नहीं लेते हैं तो यह हमारे लिए एक उपवास का काम करता रखने इससे हम 15 घंटे की उपवास का लाभ उठा सकते हैं। हम जानते हैं कि किस प्रकार उपवास से हम अपनी इम्यूनिटी को बढ़ा सकते हैं जब हम शाम का भोजन हल्का एवं जल्दी ले लेते हैं तो वह 3 से 4 घंटे में पच जाता है और बाकी का समय हमारी जीवनी शक्ति शरीर को साफ करने एवं मरमत करने में लग जाती है। और यदि शरीर में किसी कीटाणु ने प्रवेश किया है तो उस से लड़कर शरीर की सुरक्षा करती है। यदि आप चाहे तो 10:00 बजे के पहले सब्जियों का रस ले सकते हैं जोकि डिटॉक्सिफिकेशन का काम ही करता है।

कई वैज्ञानिकों ने उपवास पर शोध किया है और पता लगाया है कि उपवास करने से शरीर में जमा टॉक्सिंस एवं मृत कोशिकाएं बाहर निकलती है जिससे हमारी इम्यूनिटी बेहतर होती है। आपने पशु पक्षियों को भी देखा होगा जब वह बीमार होते हैं तो कुछ समय के लिए खाना पीना छोड़ देते हैं जिससे वे जल्दी ही स्वस्थ हो जाते हैं। ऐसा क्यों! मां प्रकृति ने सभी को यह प्राणशक्ति दी है यदि हम इसे अपना कार्य स्वयं करने दे तो यह हमें बेहतर स्वास्थ्य देती है। उपवास से शरीर में बनने वाली फ्री रेडिकल्स भी कम होते हैं जिससे कैंसर जैसी बीमारी से भी हम सुरक्षित रह सकते हैं। तो इस प्रकार यदि हम उपवास करते हैं तो हम अपनी इम्यूनिटी को बढ़ा सकते हैं।

2. नाश्ते में केवल फल ले –

15 घंटे के उपवास के बाद जब हम नाश्ता लेते हैं तो उसमें हमें केवल मौसम के अनुसार फल लेना चाहिए। जिससे हमारा शरीर ऊर्जावान महसूस करता है। ताजा फल अपने आप में एक शुद्धि कारक भोजन है। क्योंकि इनमें पानी की मात्रा अधिक पाई जाती है जिससे शरीर हाइड्रेट रहता है एवं हम दिन के प्रारंभ से ही उर्जा कारक महसूस करते हैं। किंतु यदि हम इसकी जगह नाश्ते में ब्रेड, पराठे, डोसा, सैंडविच भारी नाश्ता लेते हैं तो उसको पचाने में अधिक समय लगता है जिससे हम दिन के प्रारंभ में ही आलस्य और थकान महसूस करते हैं। यदि हम सुबह का नाश्ता ही उर्जा एवं मिनरल्स , विटामिन से भरपूर ले तो हम पूरे दिन अच्छा महसूस करते हैं। इससे पेट साफ होना, अच्छी भूख लगना, गहरी नींद आना, सुख का अनुभव होना, त्वचा साफ कोमल होना इन बदलाव को भी हम शरीर में देख सकते हैं जो कि हमारे इम्यूनिटी को बताते हैं।

3. सप्ताह के 3 दिन केबल एक ही समय अनाज ले –

हमें सप्ताह में 3 दिन ऐसे रखने चाहिए जिसमें हम केवल एक ही समय अनाज लें। जिससे हमारे शरीर की पाचन क्रिया को कुछ समय के लिए विश्राम मिल जाता है जिससे वह अच्छे तरीके से शरीर मे जमे टॉक्सिंस को बाहर निकालती है। अनाज को पचने में 10 से 12 घंटे लग जाते हैं एवं पहला भोजन पचता भी नहीं कि हम दूसरे समय का भोजन ले लेते हैं जिससे शरीर की प्राण शक्ति उसको पचाने में लग जाती है और शरीर की इम्यूनिटी को बेहतर बनाने का काम बीच में रह जाता है। यदि हम सप्ताह के 3 दिन का भोजन ऐसा रखें जिसमें एक समय अनाज हो एवं दूसरे समय में सलाद एवं सूप रखें। जिससे पचाने का काम जल्दी हो जाता है एवं बाकी का समय शरीर को साफ करने और कीटाणुओं से लड़ने में सहायक रहता है।

यदि हम इन तीनों क्रियाओं को अपनाते हैं तो हम एक बेहतर स्वास्थ्य पा सकते हैं जोकि मुश्किल नहीं है। इसके साथ ही यदि हम अपने भोजन में ताजा फल, विटामिन सी युक्त जैसे- आंवला ,संतरा, अमरूद ले, हल्दी, नीम, तुलसी, हमारे भारतीय गरम मसाले- दालचीनी, काली मिर्च, लॉन्ग, सौंफ इनका सेवन करते हैं तो हम अपनी इम्यूनिटी को बढ़ा सकते हैं।

यह मानव शरीर मां प्रकृति का दिया हुआ सबसे अच्छा उपहार है। यह जब तक हमारे पास है हमारा कर्तव्य बनता है कि हम इसको स्वस्थ एवं स्वच्छ रखें। जब हमारी इम्यूनिटी अच्छी होगी तो हम ना केवल स्वयं को बल्कि अन्य लोगों को भी सुरक्षित रख सकते हैं। तो इसका ख्याल रखें।

You may also like...

1 Response

  1. Harish says:

    This really is beautiful article,very safe and natural tips

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *